The #MeToo Revolution

At the very moment when great threats are facing economic globalisation, quite an opposite trend has surfaced in the world of emotion and culture. The extraordinary speed with which the #MeToo movement has spread is a tribute to globalisation. Within a year, societies around the world have become astonishingly comfortable in discussing social and emotional issues which earlier they had swept under a carpet.

Mind of the mixed-up Indian

By Sanjaya Baru

उन लोगों को सम्मा न दीजि ए जो हमसे अलग हैं

अपनी खुली और उल्ला सपूर्ण भारतीय परम्पराओं से सीखकर पुरानी रूढ़ियों से मुक्त होना होगा

ಪರಂಪರೆಯಂದ ಕಲಿಯೋಣ, ಭಿನ್ನರನ್್ನಗೌರವಿಸ

ನನ್ನ ಮಗ ಸಲಿಂಗಿ. ಇದನ್ನು ಒಪ್ಪಿಕೊಳ್ಳುವುದಕ್ಕೆ ನನಗೆ ಈಗ ಯಾವ ಅಳ್ಕೂ ಇಲ್ಲ. ಆತ ಕಳೆದ ಇಪಪಿತ್ತು ವರ್ಷಗಳಿಂದ ತನನು ಸಿಂಗಾತಿಯ ಜೊತೆ ಬದ್ಧತೆಯಿಂದ, ಸಿಂತೋರದಿಂದ ಸಿಂಬಿಂಧ ಕಾಪಾಡಿಕೊಿಂಡಿದ್ದಾನೆ. ನನನು ಕುಟಿಂಬ ಮತ್ತು ಹತಿತುರದ ಸನುೋಹಿತರು ಇದನ್ನು ಘನತೆ ಯಿಂದ ಒಪ್ಪಿಕೊಿಂಡಿದದಾೋವೆ. ಆದರೆ, ಸಲಿಂಗ ಸಿಂಬಿಂಧ ಅಪರಾಧವಲ್ಲ ಎಿಂದು ಸುಪ್್ೋಿಂ ಕೊೋರ್್ಷ ಹೋಳ್ವ ಕ್ಷಣದವರೆಗೆ ಈ ವಿಚಾರವಾಗಿ ನಾನ್ ಸಾವ್ಷಜನಿಕವಾಗಿ ಮಾತನಾಡುವ ಧೈಯ್ಷ ತೋರಿಸಿರಲಲ್ಲ. ಹಾಗೆ ಮಾತನಾಡಿ ದರೆ ಅವನಿಗೆ ಏನಾದರೂ ತಿಂದರೆ ಆದೋತ್ ಎಿಂಬ ಭಯ ಇತ್ತು. ತಿೋರ್್ಷ ಬಿಂದ ನಿಂತರ, ನಮ್ಮ ಮೋಲನ ದೊಡ್ಡ ಹೊರೆಯಿಂದು ಇಲ್ಲವಾದ ಭಾವನೆ ನನನುಲ್ಲ ಮತ್ತು ನನನು ಪತಿನುಯಲ್ಲ ಇದದಾಕ್ಕೆದದಾಿಂತೆ ಮೂಡಿದ.

Gays and colonial brainwashing: Learn from India’s open, exuberant past and respect those who differ from us

My son is gay and i no longer feel reluctant to admit it. He has been in a loyal, happy relationship with his partner for 20 years and my family and close friends have accepted it gracefully. I didn't dare speak about it in public, however, for fear of bringing him any harm – that is until 12.35pm on Thursday when the Supreme Court (SC) decriminalised homosexuality. My wife and i suddenly feel as if a great burden has lifted. The chief justice's wise words continue to ring in my ears, "I am what I am. So, take me as I am."

लगातार ऊंची वृद्धि दर से ही आएंगे अच्छे दिन

पश्चिम की तर्ज पर हमारे यहां वृद्धि दर पर संदेह जताना ठीक नहीं, इससे हमें बहुत फायदे भी मिले हैं

Growth is good: Acche din comes only on the back of brute economic growth and jobs

Growth is good: Acche din comes only on the back of brute economic growth and jobs

Arvind Subramanian's recent parting shot as chief economic adviser added a new phrase to our vocabulary, "stigmatised capitalism". By it, he was suggesting that the free market had still not found a comfortable home in India. The problem goes deeper. Many Indians have unthinkingly embraced the latest Western fad of questioning economic growth ever since the global financial crisis.

Take advantage of Walmart to free the farmer

वॉलमार्ट द्वारा फ्लिपकार्ट के अधिग्रहण के शोर में दुनिया की सबसे बड़े वाणिज्यि क सौदे का महत्व लगभग हर किसी से छूट गया। सुर्खियां तो एमेजॉन और वॉलमारट के बीच होने वाले संघर्ष बयां कर रही थीं। न्यूज़ चैनल बेंगलुरू के दो युवाओं की सिड्रैला कथा कहने लगे कि कैसे उन्होंने 140 हजार करोड़ रुपए की कंपनी निर्मित की और कई कर्मचारियों को करोड़पति बना दिया। अर्थशास्त्रियों ने इसमें भारत का युग आते देखा कि चीन की तरह भारत भी अब सबसे शक्ति शाली वैश्विक सप्लाई चेन में शामिल हो जाएगा। निर्यात को बल मिलेगा, नया विदेशी निवेश व रोजगार बढ़ेगा। सौदे पर मिलने वाले कैपिटल गेन्स टैक्स को लेकर विभागों की लार टपक रही होग

விவசாயிகளுக்கு பலன் சேர்க்கும் வால்மார்ட் முதலீடு

பிளிப்கார்ட்டின் 77 சதவீதப் பங்குகளை வால்மார்ட் வாங்கியதை அறிவிக்கும் நிகழ்வில் கலந்துகொண்ட வால்மார்ட் நிறுவனத்தின் சிஇஓ டாக் மெக்மில்லன் (வலது) மற்றும் பிளிப்கார்ட் சிஇஓ பின்னி பன்சால் - AFP